कृषि‍ सेवा मे लेख भेजें

How to submit articles for publication in Krishisewa

 

Seedless lemon cultivation technique

बीजरहित नींबू को फ़ारसी में नींबू या ताहिती नींबू के रूप में भी जाना जाता है। इसका वानस्पतिक नाम है साइट्रस लैटिफ़ोलिया जो कि रुटेसी परिवार से संबंध रखती है। बीजरहित नींबू संकर मूल का होता है, जो कि खट्टा नींबू (साइट्रस औरंटीफोलिया) और बड़ा नींबू (साइट्रस लिमोन) या चकोतरा (साइट्रस मेडिका) के बीच एक सलीब से होने की संभावना है।

यह एक मध्यम आकृति का, लगभग कॉटे रहित वृक्ष है, जो कि विस्तृत फैल, झालरदार शाखाओं के साथ 4.5 से 6.0 मीटर (15 से 20 फीट) लंबा है। फूल हल्का बैंगनी के साथ सफेद रंग के होते है। फल अंडाकार या आयताकार है जो कि 4 से 6.25 सेंटीमीटर (1.5 से 2.5 इंच) चौड़े और 5 से 7.25 सेंटीमीटर (2 से 3 इंच) लंबे है, आम तौर पर कुछ बीजों वाले या बीजरहित होते है।

हालांकि फलों को आम तौर पर हरा अवस्था में तोड़ा और बेचा जाता है, पर पूरी तरह परिपक्व होने पर फल पीलापन लिये हुए हरा या बिलकुल पीले रंग के हो जाते है। फल का गूदा रसदार, पर फल में एक सुगंधित, मसालेदार सुगंध और तीखा स्वाद होता है।

वाणिज्यिक कृषि के प्रयोजनों के लिए इसमें दुसरे नींबू की तुलना में कई फायदे है, जैसे बड़ा आकृति, बीज की अनुपस्थिति, प्रतिकूल वातावरण में रहने की सहिष्णुता, झाड़ियों पर कांटों की अनुपस्थिति, और लंबे समय तक फलों के शेल्फ जीवन। यह सारी खूबियां संयुक्त रूप से बीजरहित नींबू के पोधे को अधिक व्यापक रूप से खेती करने के लिए सर्व-प्रिय बना देते है।

बीजरहित नींबू  का उद्भव:

यह पहली बार दक्षिणी इराक और ईरान में वाणिज्यिक रूप से उगाया गया था। मैक्सिको अब अमेरिकी, यूरोपीय और एशियाई बाजारों के लिए बीजरहित नींबू का प्राथमिक उत्पादक और निर्यातक है।       

बीजरहित नींबू का स्वास्थ्य में महत्व:

यह रूसीदार (एक बीमारी जो विटामिन सी की कमी के कारण होती है) का इलाज करने के लिए अच्छी तरह से जाना जाता है। यह त्वचा को कायाकल्प करता है और इसे संक्रमण से बचाता है।

इसके अंदर उपलब्ध अम्ल त्वचा की मृत कोशिकाओं को साफ़ करते है और रूसी, चकत्ते और घावों का इलाज करते है। इसकी एक अनूठी सुगंध है जो प्राथमिक पाचन में सहायक होती है। घुलनशील फाइबर का उच्च स्तर इसे एक आदर्श आहार सहायक बना देते है, जिससे रक्तधारा में शरीर के शर्करा का अवशोषण को नियंत्रित करने में मदद कर सके।

यह हृदय रोगों, और दिल के दौरे के विरुद्ध रोकथाम के लिए जाना जाता है। इसमें फ्लेवोनोइड (लिमोनिन ग्लूकोसाइड) नामक विशेष यौगिक शामिल है, जिसमे ऑक्सीकरण रोधी, कर्कटजनक-विरोधी, जीवाणुनाशक तथा विषैला पदार्थों को हटानेवाले गुण है, जो कि पाचक और मौखिक व्रण की चिकित्सा प्रक्रिया को प्रोत्साहित करती है।

कैम्प्फ़ेरोल की उपस्थिति के कारण इसे बाम, वापाधारक और साँस खींचनेवाला जैसे विरोधी कंजेस्टिव दवाओं में बड़े पैमाने पर उपयोग किया जाता है।

गठिया के कई कारणों में से एक होता है शरीर में यूरिक अम्ल का अतिरिक्त निर्माण। यूरिक अम्ल एक अपशिष्ट पदार्थों है जो पेशाब से शरीर से बाहर निकल जाता है। लेकिन दुर्भाग्य से, जब इसका बहुत अधिक निर्माण होने लगता है तब यह गठिया के दर्द और सूजन को बदतर बना सकता है। बीज रहित नींबू में पाया गया साइट्रिक अम्ल एक विलायक है, जिसमें यूरिक अम्ल विरघित हो सकता है, और  मूत्र के माध्यम से निकल जाते है।

इसकी ऑक्सीकरण रोधी गुण वृद्धावस्था और धब्बेदार अध: पतन से आंखों की रक्षा करते है। इसके अलावा, यह प्रोस्टेट और पेट के कैंसर, हैजा, धमनीकाठिन्य और थकान का इलाज करने में मदद कर सकता है।

बीजरहित नींबू की पोषण संरचना प्रति 100 ग्राम खाने योग्य भाग में:

ऊर्जा – 20 कैलोरी

सोडियम – 1.3 मिलीग्राम

संतृप्त वसा – 0 ग्राम

कोलेस्ट्रॉल – 0 ग्राम

असंतृप्त वसा – 0.01 ग्राम

कुल कार्बोहाइड्रेट– 7.1 ग्राम

प्रोटीन – 0.5 ग्राम

शक्कर – 5.2 ग्राम

आहार फाइबर- 1.9 ग्राम

 

बीजरहित नींबू की खेती के लि‍ए मिट्टी व जलवायु 

यह पूर्ण धूप में स्थित एक गहरी, उचित जलनिकास युक्त बलुई दोमट मिट्टी पसंद करती है। यह 5.5 – 6.5 के सीमा में पीएच मान का पसंद करती है, तथा पीएच मान 5 से 7.5 तक सहन कर सकती है।

बीज रहित नींबू के खेती के लिए तीन मुख्य मौसम उपयुक्त होते है - उष्णकटिबंधीय मौसम, सर्दियों की वर्षा के साथ उपोष्णकटिबंधीय और गर्मियों में वर्षा के साथ ऋणात्मक। खेती के लिए अधिकतम तापमान 25 – 30 डिग्री सेल्सियस होता है।

विकास सामान्यत: 13 डिग्री सेल्सियस से नीचे और 38 डिग्री सेल्सियस से ऊपर रुक जाते है। यह 1200 से 1500 मिलीमीटर औसत वार्षिक वर्षा पसंद करता है।  

बीजरहित नींबू की किस्‍में:

इडेमोर - फ्लोरिडा में जी.एल. पोल्क द्वारा 1934 के आसपास मिला। यह फल छोटा है और विषाणु रोगों की संवेदनशीलता की वजह से इसे लंबे समय तक लगाया नहीं गया है।

यूएसडीए नंबर 1 और नंबर 2 - बागवानी क्षेत्र स्टेशन, ऑरलैंडो, फ्लोरिडा में संयुक्त राज्य के कृषि विभाग के डॉ जेम्स चाइल्ड द्वारा चयन किया गया। वे एक्सोकॉर्टी और ज़िलेप्लोरोसिस विषाणु से मुक्त है। 

बीजरहित नींबू प्रवर्धन:

बीजरहि‍त नींबू मे  वंशवृद्धि नवोदित यानि‍ि‍ कली से नये पौधे उभरने हेतु कोई वांछित वंशज से कली निकाल कर मूलबृंत मे अंग्रेज़ी के अक्षर टी के आकृति काट करके उसमे कली को बांधने से याा कलम बांधने यानि‍ि‍ लिबाल और फांक प्रक्रिया से अथवा वायु-स्तरीय गूटी बाँधने (मार्कोटेज) के द्वारा होता है।

यह आमतौर पर दक्षिण भारत में रंगपुर नींबू (साइट्रस लिमोनिया) के एक वर्षीय मूलबृंत पर पच्चर प्रक्रिया के कलम बांधने से वंश-वृद्धि होता है।

उच्च पीएच, कैल्शियमयुक्त मिट्टी जैसे चट्टान भूमि और कुछ रेतीले मिट्टी में कलम के पेड़ों को उगाने के लिए उपयुक्त मूलबृंत  साइट्रस जम्भूरी, साइट्रस मैक्रोफिला, साइट्रस लिमोनिया, साइट्रस वोल्कामेरीयाना, यूएस-801, यूएस-812, और यूएस-897 हैं और कम-पीएच मान या उदासीन प्रतिक्रिया वाली मिट्टी के लिए उपयुक्त मूलबृंत स्विंगल सिट्रोमलो है । 

बीजरहित नींबू की रोपण:

पेड़ों को 16 इंच (40.5 सेंटीमीटर) गहरे कटे हुए खाइयों के चौराहे पर या पिसा चूना पत्थर और मिट्टी के ढेर पर लगाया जाता है। पेड़ लगाते समय नमी वाले क्षेत्रों से बचें या बाढ़ या पानी को बरकरार रखने वाले जगह से बचें, क्योंकि पेड़ जड़ सड़न से ग्रस्त हो जाते है।

पेड़ों के अंतरालन 20 फीट (6 मीटर) की अलग-अलग पंक्तियों में 10 या 15 फीट (3-4.5 मीटर) के करीब हो सकती है, जिससे प्रति एकड़ में लगभग 150 से 200 पेड़ समायोजित हो सके।   

वृक्षों का वितान प्रबंधन:

जब पेड़ अतिव्याप्त हो जाते है, तो उन्हें मशीन की मदद से विकास को रोकना और शीर्ष को काटना आवश्यक होता है, जो कि 2 से 3 साल के अंतराल पर करने और पेड़ों को 20 फीट (6 मीटर) कि दूरी पर लगाने से अधिक से अधिक पैदावार का परिणाम मिल सकता है।

वृक्ष की छंटाई आड़ा-तिरछा, बीमारी संक्रमित शाखाओं को हटाने तथा फल तोड़ने की 6-8 फुट की एक ऊंचाई बनाए रखने के लिए सीमित है।

बीजरहित नींबू की सिंचाई:

रोपण के समय नये पेड़ों में पानी देना चाहिए और पहले सप्ताह में हर दूसरे दिन और फिर पहले कुछ महीनों में सप्ताह में एक या दो बार सिंचाई करना चाहिए। लंबे समय तक शुष्क अवधि (उदाहरण के लिए, पांच या अधिक दिन के अवधि की अनावृष्टि) के दौरान, नये लगाए गये और युवा वृक्षों में, पहले तीन वर्ष, हफ्ते में दो बार, अच्छी तरह से सिंचाई करना चाहिए।

वाणिज्यिक बागों में, भूमि के ऊपर छिड़काव के माध्यम से सिंचाई प्रदान की जाती है।

बीजरहित नींबू में उर्वरक का प्रयोग:

प्रथम वर्ष के दौरान हर दो से तीन महीनों में नये पेड़ों में उर्वरक का प्रयोग करना चाहिए, 114 ग्राम उर्वरक के साथ शुरुआत करके वृक्ष प्रति 455 ग्राम तक बढ़ाना चाहिए। इसके बाद, वृक्ष के बढ़ते आकृति के अनुपात में प्रति वर्ष तीन या चार बार उर्वरक का प्रयोग में बृद्धि पर्याप्त होती है, लेकिन प्रत्येक वर्ष प्रति वृक्ष 5.4 किलोग्राम से अधिक नहीं होनी चाहिए।

उर्वरक मिश्रण में नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटाश की मात्रा 6-10 प्रतिशत और मैग्नीशियम 4-6 प्रतिशत रहने से युवा वृक्षों में संतोषजनक परिणाम मिलते है। फल-धारक पेड़ों के लिए, पोटाश को 9-15% तक बढ़ाया जाना चाहिए और फॉस्फोरस को 2-4% तक कम किया जाना चाहिए।

घास-पात से ढकना: यह प्रक्रिया मिट्टी की नमी को बनाए रखने में मदद करता है, पेड़ के छत के नीचे जंगली घास की समस्याओं को कम कर देता है और सतह के पास मिट्टी में सुधार में मदद करता है। छाल या लकड़ी के टुकड़े की 2-6 इंच (5-15 सेंटीमीटर) परत के साथ पेड़ों के सतह को आवरण किया जा सकता है। इस आवरण को पेड़ का तना से 8-12 इंच (20-30 सेंटीमीटर) दूर प्रयोग करना चाहिए, अन्यथा पेड़ का तना सड़ सकता है।     

बीजरहित नींबू में परागण:

वृक्ष में फल लगने के लिए परागण की आवश्यकता नहीं होती है, हालांकि मधु मक्खियों और अन्य कीड़े अक्सर खुली फूलों की पास घूमते रहते है।

फलों का उत्पादन:

चूंकि यह त्रिगुणित (3 एन = 27) संकर है, इसकी पराग और अंडाशय व्यवहार्य नहीं है और इस प्रकार इसके फलों में बीज नही होते है। पेड़ों में स्वतंत्र या समूहों से फल लग सकते है। वृक्ष की छंटाई 2 मीटर से कम ऊंचाई बनाए रखने के लिए उपयोगी हो सकती है जिससे कि सूर्य के संपर्क में बृद्धि से बेहतर रंग (गहरे हरे) के अधिक फल उत्पादन प्राप्त किया जा सके।

पेड़ फरवरी से अप्रैल तक (बहुत गर्म क्षेत्रों में, कभी-कभी वर्ष भर में) पांच से 10 फूलों के समूहों में खिलते है और अनुगामी फल उत्पादन 90-120 दिन की अवधि के भीतर होते है। फल लगने के समय गिबेलिलिक एसिड (10 पीपीएम) के छिड़काव परिपक्वता देरी करता है तथा फलों के आकृति में वृद्धि करता है।

युवा, तेज़ी से बढ़ने वाला वृक्ष रोपण के बाद अपना पहला साल 3.6-4.5 किलोग्राम और दूसरे वर्ष 4.5-9.1 किलोग्राम का फल उत्पादन कर सकते है।

अच्छी तरह से देखभाल किये गये पेड़ सालाना 9.1-13.6 किलोग्राम का फल तीन साल में दे सकता है, जो कि चार वर्ष में 27.2-40.8 किलोग्राम, पांच वर्ष में 49-81.6 किलो, और छह वर्ष में 90.6-113.4 किलोग्राम दे सकता है।   

फसल तुड़ाई:

फल परिपक्वता प्रारंभ होने पर एक-एक फल को हाथ से तोड़ा जाता है लेकिन एक टमटम भी इस्तेमाल किया जा सकता है। सालाना लगभग 8-12 बार फसल तुड़ाई होता है। इसका सटीक समय जुलाई से सितंबर तक है, 70% फसलें मई में परिपक्व होती है।

लगभग 40% फसलों का उपयोग केवल रस के गाढ़ा बनाने के लिए किया जाता है। अपरिपक्व फल रस का उत्पादन नहीं करता है, इसलिए इसे उस समय नहीं तोड़ा जाना चाहिए। बीजरहित नींबू के फलों के लिए परिपक्वता संकेत रस सामग्री (वज़न के अनुसार 45 प्रतिशत रस) और फल का आकृति (50-63 मिलीमीटर) है।

फलों के संवेष्टन प्रक्रिया के दौरान, उत्कृष्ट गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए, फल पूरी तरह से शुष्क होने पर ही तुड़ाई करना चाहिए।  

फलों का पैदावार:

पौधों में साल भर फूल और फल लगते है, पर गर्मियों के अंत की ओर एक विशिष्ट फलने का उच्चतम स्तर दिखाई देता है। 41 किलोग्राम फलों की पैदावार 2 मीटर लंबा वृक्षों से प्राप्त की गई है।

साइट्रस मैक्रोफिला मूलबृंत पर कलम बांधा गया 7 फीट (2.13 मीटर) बीजरहित नींबू के पेड़ों से पैदावार औसतन 41 किलोग्राम होता है, जबकि साइट्रस जम्भूरी पर कलम बांधने से समान आकार के पेड़ों में २९ किलोग्राम की पैदावार होता है।

भंडारण:

फलों को कोई उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। प्रशीतन के तहत ताजा फल 6 से 8 सप्ताह के लिए अच्छी स्थिति में रहते है।

बीजरहित नींबू में कायि‍क या शारीरिक विकार:

शीत चोटें:

फल-मक्खी से मुक्त फल प्रमाणित करने के लिए फसल तुड़ाई उपरांत विभिन्न संक्रमण-विरोधी प्रक्रियाओं में से, ठंड संगरोध उपचार कई देशों की नियामक संस्थाये द्वारा स्वीकार किये गये है और अब वाणिज्यिक रूप से लागू होते है।

हालांकि, कम तापमान पर लंबी अवधि के भंडारण से ठंड से होने वाली क्षति बढ़ जाती है। इसके लक्षण है, फल में भूरे रंग के झुकाव क्षेत्र बन जाना, परिगलन और अंततः कोशिका मृत्यु। शीत उपचार के दौरान ठंड से होने वाली क्षति के लक्षण स्पष्ट नहीं हो सकते है, लेकिन जब फल को गर्म अवस्था में स्थानांतरित किया जाता है, तो इसे पूरी तरह से व्यक्त किया जा सकता है।

जब संगरोध उपचार (10-22 दिनों के लिए 0-2.2 डिग्री सेल्सियस) के पहले एक हफ्ते के लिए फलों को 5 डिग्री सेल्सियस पर अनुकूलित किया जाता है, तब वे कम से कम ठंड से होने वाली क्षति का सामना करना पड़ता है।

स्टेम इंड रॉट:

यह गर्मियों में एक बहुत गंभीर फसल तुड़ाई उपरांत विकार है। यह फल तोड़ने के 2 घंटों या कई दिनों के भीतर हो सकता है। यह स्पष्ट रूप से बड़े आकृति के फल, जैसे 2.5 इंच (6.25 सेंटीमीटर) से बड़ा फल में या प्रातः काल में टूटे फल में उभाड़ते है, जब फल के आंतरिक दबाव उच्च है और फल फलों को बक्से में गर्म धूप में बहुत लंबा छोड़ दिया जाता है। इसका प्रभाव रस पुटिकाओं का विस्तार तथा टूटना, और फल के शीर्ष पर एक भूरा, नरम क्षेत्र का विकास। इस बजह से फल का घाटा 40 प्रतिशत के बराबर हो जाता है। फलों की छँटाई तथा पैकिंग से पूर्व 24 घंटों के लिए ठंडा करने से इस विकार की समस्याएं कम हो जाती है।      

नींबू के कीट और रोग:

डायफोरिना साइट्री:

यह पत्तियों और युवा तने पर हमला करता है, वृक्ष को गंभीर रूप से कमजोर कर देता है। यह ग्राम-नकारात्मक जीवाणु रोग को फैलाता है, जिसे पीला तना रोग के नाम से जाना जाता है, जो नींबू के पेड़ों के लिए घातक है।     

टोक्सोप्टेरा साइट्रिसिडा:

दोनों पंखहीन और पंख वाले रूप के अफीड नये विकसित पत्ते को खाते है, जिससे विरूपण होता है।    

जब इस एफिड की आबादी बहुत अधिक होती है, तो तना शीर्षारंभी क्षय हो सकता है। भूरा साइट्रस एफिड साइट्रस ट्रस्टेजा विषाणु का एक प्रमुख रोगवाहक है और अतिसंवेदनशील मूलबृंतों (साइट्रस ऑरांटियम और साइट्रस मैक्रोफिला) पर वृक्ष पतन और पेड़ों की मृत्यु के कारण हो सकता है।  

फाइलोकनिस्टिस साइट्रला:

इस कीड़े का बच्चा आमतौर पर पत्ती की ऊपरी सतह पर हमला करती है। इस बजह से संक्रमित पत्तियां विरूपण का कारण बनता है, जो पत्ते के कार्यात्मक सतह क्षेत्र को कम करता है।   

घुन:

साइट्रस लाल घुन (पोननीचुस साइट्री) आम तौर पर पत्ती की ऊपरी सतह पर हमला करता है, जिसके परिणामस्वरूप भूरा, परिगलित क्षेत्र बन जाते है। गंभीर आक्रमण से पत्ता गिरना शुरू हो सकता है।

जंग-घुन (फिलेकोप्रेटा ऑलिवोरो) और चौड़ा-घुन (पॉलीफागोटारसोनमस लैटस) पत्तियों, फल और तने पर हमला कर सकते है। इन कीड़े के भक्षण से फल का छिलका भूरा रंग का हो जाता है। अधिक प्रकोप की दशा में पत्ते पे सल्फर का छिड़काव द्वारा कीड़ों को नियंत्रण किया जा सकता है।

लाल शैवाल:

यह छाल विभाजन और शाखाओं के मरने का कारण बनता है। यह सेफ़ालेउरॉस विरेसेंस के कारण होता है। मध्य गर्मी से बाद की गर्मियों तक 1-2 तांबा आधारित रासायनिक का छिड़काव द्वारा शैवाल का नियंत्रण किया जा सकता है।  

कोलेटट्रिचम एकुटाटम:

बरसात के मौसम में इस बीमारी की उपस्थिति सबसे अधिक प्रचलित है। इस रोग के शुरुआती लक्षणों में भूरे रंग से, फूलों की पंखुड़ी पर पानी के लथपथ घावों शामिल है। उसके बाद पंखुड़ियों नारंगी रंग में बदल जाते है और सूख जाते है। 

नींबू के विषाणु संक्रामक रोग:

पेड़ कई वायरस के लिए अतिसंवेदनशील है, जैसे कि  सोरोसिस, ट्रिस्टेजा, एक्सकोर्टिस और ज्यलोपोरोसीस। सोरोसिस वृक्षों के अंगों पर छाल परत का कारण बंता है। फल के छिलके पर अंगूठी जैसे निशान हो सकते है। यह संक्रमण संभवतः संक्रमित कलम बांधने के उपकरण के द्वारा कली लकड़ी में फैलता है।

त्वरित गिरावट, तने पे गर्त जैसा बनना, और नये उगता पोधों में पीलापन ट्रिस्टेजा के लक्षण होते है। अनुदैर्ध्य छाल का छीलन तथा टूटना और सूजा हुआ विचित्र पत्तियों एक्सकोर्टिस के लक्षण होते है।ज्यलोपोरोसीस दूषित कलम बांधने का उपकरण के द्वारा पोधों को संक्रमित करता है। चिपचिपा पदार्थ का गठन द्वारा फ्लोएम को विवर्ण करना, छाल पर लहरदार परत ज्यलोपोरोसीस के लक्षण होते है।

विषाणुजनित संक्रमण से बचाव के लिए स्वस्थ पौधों को प्रजनन के स्रोत के रूप में इस्तेमाल किया जाना चाहिए और कृत्रिम परिवेशीय अवस्था में टहनी के शीर्ष भाग को कलम बांधा जा सकता है।

कलम बांधने के उपकरण पर सोडियम हाइपोक्लोराइट के उपयोग से वायरस के यांत्रिक फैलाव को रोका जा सकता है।

कलम बांधने के लिए उपयुक्त मूल-बृंतों का उपयोग करना चाहिए, जैसे पोनसिरस ट्राइफोलियटा (सोरोसिस, ट्रिस्टेजा, एक्सकोर्टिस और ज्यलोपोरोसीस के लिए प्रतिरोधी), ट्रोयर और कर्रिजों सिटरेंजस, जो कि पोनसिरस ट्राइफोलियटा और साइट्रस सीनेन्सिस के बीच संकर है (ट्रिस्टेजा और ज्यलोपोरोसीस के लिए सहनशील), साइट्रस ऐरांटियम (सोरोसिस, एक्सकोर्टिस और ज्यलोपोरोसीस के लिए प्रतिरोधी), साइट्रस रेशनी (सोरोसिस, ट्रिस्टेजा, एक्सकोर्टिस और ज्यलोपोरोसीस के लिए सहनशील) तथा स्विंगल सिट्रोमलो, जो कि साइट्रस परादीसी और पोनसिरस ट्राइफोलियटा के बीच संकर है (सोरोसिस, ट्रिस्टेजा, एक्सकोर्टिस और ज्यलोपोरोसीस के लिए सहनशील)।

 


Authors:

प्राणनाथ बर्मन और कंचन कुमार श्रीवास्तव

केन्द्रीय उपोषण बागवानी संस्थान, रहमानखेड़ा, काकोरी, लखनऊ – 226 101  

Email: This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.