सरसों, आलू, प्‍याज, रबी, खरीफ, बीघा, एकड, हैक्‍टेयर, पयाद, बीज, बीजोपचार, राईजोबि‍यम, केचुआ, मक्‍का, धान, गेंहूँ, चावल, जौं, चारा, मवेशी, दुध, मशरूम, अनाज, खेती, उगाना, खरपतवार, दवाई, खाद,

कृषिसेवा एक आनलाईन मैगजीन है जि‍समें कृषि‍ से सम्‍बंधि‍त लेखों का रोलि‍ंग मोड में, यानि‍ जैसे ही प्रविटियां प्राप्‍त होती है वैसे ही, प्रकाशन किया जाता है। हमारा उद्देश्‍य सूचना तकनीक के माध्‍यम से किसानों को खेती से संबधित जानकारी ऑनलाईन उपल्‍ब्‍ध कराना है। इस ऑनलाईन पत्रि‍का में वि‍शेषज्ञों से प्राप्‍त लेखों से खेती के उन्‍नत तरीके, फसलो की अच्‍छी किस्‍में, उगाने का उचि‍त समय व बीज की मात्रा तथा फसलो का बि‍मारि‍याे व कीट-पतंगों से बचाव, खेती भूमि‍ की पारम्‍परि‍क व नई माप तोल वि‍धि‍ जैसी वि‍वि‍ध उपयोगी जानकारी लगातार प्रकासि‍त होती हैै। 

Agricultural work to be carried out in the month of September

धान फसल: 

  • धान का भंडारण करते समय आद्रता स्‍तर 10-12 प्रति‍शत से कम होनी चाहि‍ए। 
  • धान का भण्‍डारण कक्ष को तथा जूट के बोरों को वि‍संक्रमि‍त करके ही भंडारण करे।
  • धान भण्‍डारण के कीडों के नि‍यंत्रण के लि‍ए फोस्‍टोक्‍सीन दवा का प्रयोग करें।
  • कीडों से बचाव के लि‍ए स्‍टॉक को तरपोलि‍द से ढक दें।

सब्‍जि‍यॉं :

  • गोभी की पूसा सुक्‍ति‍, पूसा पौषजा प्रजाति‍यों की नर्सरी तैयार करें।

  • बन्‍द गोभी की कि‍स्‍म गोल्‍डन एकर, पूसा कैबेज हाईब्रि‍ड 1 की नर्सरी तैयार करें।

  • पालक की पूसा भारती कि‍स्‍म की बुआई आरम्‍भ कर सकते हैं।

  • बैंगन की पौध पर 3 ग्राम मैंकोजेब और 1 ग्राम कार्बेन्‍डाजि‍म को एक लि‍टर पानी में घोलकर छि‍डकाव करें।

  • अगेती गाजर की पूसा वृष्‍टि‍ कि‍स्‍म की बुआई करें।

  • गाजर को पर्ण अंगमारी रोग से बचाव के लि‍ए थीरम 2.5 ग्राम प्रति‍ कि‍लोग्रा बीज की दर से उपचारि‍त करके बोऐं।

  • गाजर को स्‍क्‍लेरोटि‍नि‍या वि‍गलन से बचाव के लि‍ए 15 ग्राम प्रति‍ तीन लि‍टर पानी मे घोलकर मृदा को सींचे।

     

फल फसलें:  

  • वयस्‍क आम के पौधों में बची हुई उर्वरक की मात्रा (500 ग्राम नाईट्रोजन, 250 ग्राम फॉस्‍फोरस व 500 ग्राम पोटास) को मानसून की बारि‍स के पश्‍चात डालें।

  • नींबू वर्गीय फलों में यदि‍ डाईबैक, स्‍कैब  तथा सूटी मोल्‍ड बीमारी का प्रकोप हो तो 3 ग्राम कापर ओक्‍सीक्‍लोराइड दवा एक लीटर पानी में घोलकर छि‍डकाव करें।

  • नींबू वर्गीय फलों में कैंकर बीमारी की रोकथाम के लि‍ए 5 ग्रा. स्‍ट्रैपटोसाइक्‍लीन तथा 10 ग्रा. कॉपर सल्‍फेट दवा को 100 लीटर पानी में घोलकर या 3 ग्राम कापर ऑक्‍सीक्‍लोराइड को प्रति‍1 लीटर पानी की दर से घोलकर पौधों में डालें। 

सरसों:

  • इस माह में सरसों की अगेती कि‍स्‍मों जैसे कि‍ पूसा सरसों 25, पूसा सरसों 28, पूसा सरसों 27 व पूसा तारक की बुआई करें।

  • सरसों में सफेद रतुआ के बचाव के लि‍ए मेटालैक्‍सि‍ल (एप्रॉन 35 एस डी) 6 ग्राम प्रति‍ कि‍लोग्राम बीज दर से या बैवि‍स्‍टि‍न 2 ग्रा. / कि‍लोग्राम बीज की दर से उपचारि‍त करें।

  • सरसों में खरपतवार नि‍यंत्रण के लि‍ए बुआई से पहले 2.2 लीटर/ हैक्‍टेयर की दर से फलूक्‍लोरोलि‍न का 600 से 800 लीटर पानी में घोल बनाकर छि‍डकाव करें।

  • यदि‍ बुवाई से पहले खरपतवार नि‍यंत्रण नही कि‍या गया है तो 3.3 लीटर पेंडीमि‍थालि‍न (30 ई.सी.) को 600 से 800 लीटर पानी में घोलकर बुआई के 1-2 दि‍न बाद छि‍डकाव करें।


पूसा कृषि‍ पंचाग, भा.क्अनू.सं.

जो ऑनलाइन है

We have 149 guests and no members online

हिंदी में कृषि संबधित लेख का प्रकाशन 

लेख सबमिट कैसे करें?

How to submit article